जानिए प्रधानमंत्री मोदी ने क्या कहा देशवासियों से साल के आखरी ‘मन की बात’ कार्यक्रम में

0
61

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल के अपने आखिरी ‘मन की बात’ में इस साल अपनी सरकार की उपलब्धियों के जिक्र के साथ नए साल के संकल्पों की बात की। प्रधानमंत्री के ‘मन की बात’ का यह 51वां संस्करण था। पीएम मोदी ने कहा कि हमें नए साल में कुछ ऐसा करने का संकल्प लेना होगा, जिससे खुद के जीवन में बदलाव के साथ-साथ देश और समाज को आगे बढ़ाने में भी योगदान दे सकें।
प्रधानमंत्री के ”मन की बात” का यह 51वां संस्करण था। पीएम मोदी ने कहा कि हमें नए साल में कुछ ऐसा करने का संकल्प लेना होगा, जिससे सबर्ड गरीब को छोड़कर बाकी देश के गरीबो का जीबन जी…
2018 में शुरू हुईं अपनी सरकार की योजनाओं के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि इसी साल आयुष्मान भारत योजना का आगाज हुआ। गुजरात में सरदार पटेल की स्टैचू ऑफ यूनिटी लगी। इस दौरान उन्होंने देश के सबसे लंबे रेल-रोड ब्रिज का भी जिक्र किया, जिसकी पिछले दिनों असम में शुरुआत हुई। प्रधानमंत्री ने ‘मन की बात’ में खेल के क्षेत्र में इस साल भारत द्वारा हासिल की गईं उपलब्धियों के बारे में भी बताया। उन्होंने 2018 एशियन गेम्स में भारत के शानदार प्रदर्शन का भी जिक्र किया। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि इसी साल देश को पर्यावरण के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय सम्मान मिला।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन भारतीय हस्तियों का भी जिक्र किया, जिन्होंने इस साल दुनिया को अलविदा कहा। इस क्रम में उन्होंने चेन्नै के डॉक्टर जयाचंद्रन का खास जिक्र किया, जो गरीबों का मुफ्त में इलाज करते थे।प्रधानमंत्री ने कुंभ मेला को देश की गौरवशाली संस्कृति का प्रतीक बताते हुए देशवासियों से अपील की कि वे जब प्रयागराज कुंभ जाएं तो इसके अलग-अलग पहलुओं और तस्वीरों को सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें। उन्होंने कहा कि इससे दुनिया के ज्यादा से ज्यादा लोगों को कुंभ जाने की प्रेरणा मिलेगी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कुंभ की दिव्यता से भारत की भव्यता अपना रंग बिखेरेगी।
प्रधानमंत्री ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में कहा, ‘इस वर्ष हम बापू की 150वीं जयंती मना रहे हैं और इस बार गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि, दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा हैं। हमारे लिए यह गर्व की बात है क्योंकि पूज्य बापू व दक्षिण अफ्रीका का एक अटूट संबंध है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here