एंड्रॉइड स्मार्टफोन यूजर्स हो जाएं अलर्ट, चोरी हो सकती हैं बैंक डिटेल्स

0
16

एक बार फिर एंड्रॉइड स्मार्टफोन यूजर्स पर खतरा मंडरा रहा है। गूगल प्ले स्टोर पर ऐसे दर्जनों ऐप्स का पता लगाया गया, जो खतरनाक मालवेयर से प्रभावित हैं। ये ऐप्स आपके बैंक के पासवर्ड और यहां तक कि पैसों को भी चुरा सकते हैं। एंटी-वायरस निर्माता कंपनी ESET के सिक्युरिटी एक्सपर्ट्स ने पता लगाया है कि गूगल प्ले स्टोर पर डिवाइस क्लीनर, बैटरी मैनेजर व होरोस्कोप जैसे कई ऐप्स मौजूद हैं, जो मालवेयर से प्रभावित हैं और काफी खतरनाक हैं। ये आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं।इन ऐप्स के बारे में पता लगने पर इन्हें प्ले स्टोर से हटा दिया गया है, लेकिन हो सकता है कि ये आपके स्मार्टफोन में इंस्टाल हों, इसलिए आपको सतर्क रहते हुए अपने स्मार्टफोन को चेक करने और इन्हें रिमूव करने की जरूरत है। मालवेयर से प्रभावित इन एप्स का उपयोग करते समय यूजर को फेक लॉगिन स्क्रीन शो होने लगती है, जिसके जरिए आपके बैंक की डिटेल्स को आपसे ही भरवा लिया जाता है। इन ऐप्स के जरिए ही यूजर्स के टेक्सट मैसेजेस को सेंड व रिसीव भी किया जा सकता है, जिससे आपके OTP आदि को चुराया जा सकता है। ये खतरनाक ऐप्स इंटरनैट बैंकिग डाटा को प्रोटेक्ट करने वाले मल्टीफैक्टर ऑथेंटिकेशन (MFA) प्रोटोकोल्स को बाइपास कर देते हैं, यानी इन्हें काफी चालाकी से बनाया गया है। वहीं, इनकी मदद से हैकर स्मार्टफोन में इंस्टाल अन्य ऐप्स पर भी अटैक कर सकते हैं।

ESET ने एंड्रॉइड यूजर्स को सुझाव देते हुए बताया है कि इस मालवेयर से बचाव कैसे किया जा सकता है। सिक्युरिटी रिसर्चर्स का कहना है कि अगर आप इस तरह की एप्लिकेशन्स का उपयोग करते हैं तो आपको अपने बैंक अकाऊंट को चेक करना चाहिए और पता लगाना चाहिए कि किसी भी तरह का संदिग्ध लेन-देन तो नहीं हुआ है। वहीं, ऐसे ऐप्स को रिमूव करने के बाद इंटरनेट बैंकिंग का पासवर्ड व PIN कोड भी बदल लें। कंपनी ने यूजर्स को सेफ रहने व सिक्युरिटी थ्रैट से बचने के लिए कुछ सुझाव दिए हैं।

1. ऐप्स को गूगल प्ले स्टोर से ही डाउनलोग करना चाहिए और उन ऐप्स को डाउनलोड नहीं करना चाहिए जो थर्ड पार्टी ऐप स्टोर्स पर मौजूद हैं।

2. डाउनलोड करने से पहले जांच करें कि कितने लोगों ने इसे अब तक डाउनलोड किया है। वहीं, ऐप रेटिंग व रिव्यूज को भी देखें।

3. इस बात का ध्यान रखें कि ऐप किस तरह की परमिशन आपसे मांग रहा है। सही लगने पर ही परमिशन दें।

4. अपनी डिवाइस को अपडेट रखें और एक मोबाइल सिक्युरिटी सॉफ्टवेयर को इंस्टाल करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here